माता के जयकारों के बीच छोले वाली माता खण्डेरा को चढ़ाई 11 हजार मीटर लंबी चुनरी:18 किमी लंबा जुलूस निकला, स्वास्थ्य मंत्री डॉ चौधरी देवी भजनों पर जमकर झूमे नाचे.माता महाकाली, राधेकृष्ण और नौ कन्याओं की सजीव झांकियां,खेल तमाशे बने आकर्षण के केंद्र

माता के जयकारों के बीच छोले वाली माता खण्डेरा को चढ़ाई 11 हजार मीटर लंबी चुनरी:18 किमी लंबा जुलूस निकला, स्वास्थ्य मंत्री  डॉ  चौधरी देवी भजनों पर  जमकर झूमे नाचे.माता महाकाली, राधेकृष्ण और नौ कन्याओं की सजीव झांकियां,खेल तमाशे बने आकर्षण के केंद्र

रायसेन।हर साल की तरह इस साल भी शारदीय नवरात्र पर्व के पंचमी पर 11 हजार मीटर लंबी चुनरी यात्रा निकाली गई। दोपहर साढ़े 12 बजे 18 किलोमीटर लंबी यात्रा सांची रोड स्थित भगवती देवी माता मंदिर से निकली और खंडेरा स्थित छोले वाली माता मंदिर पहुंची। यहां भक्तों ने मां को चुनरी अर्पित की। पैदल यात्रा में शामिल स्वास्थ्य मंत्री व साँची अजा सीट के भाजपा प्रत्याशी डॉ प्रभुराम चौधरी भी देवी भजनों पर झूम उठे।। माध्यम ग्रुप रायसेन के आयोजकों जमना सेन नपाध्यक्ष सविता सेन सुरेश पाठक अशोक सोनी नूतन कुशवाहा मोहन तमोली इजीतू सोनी मनोज यादव अशोक जितेंद्र सेन का दावा है कि यह विश्व की सबसे लंबी चुनरी है।विश्व की सबसे बड़ी 11000 मीटर लंबी विशाल पैदल चुनरी यात्रा।

पैदल चुनरी यात्रा खेल तमाशों बाजे गाजों के बीच निकाली गई।देवी भक्तों द्वारा खण्डेरा वाली जगदंबे को श्रद्धा आस्था के बीच चढ़ाई गई।माध्यम ग्रुप रायसेन की यह 11 वर्ष का आयोजन रहा।

      शारदीय नवरात्रि पर्व में लगातार 11 वें वर्ष माध्यम ग्रुप रायसेन के तत्वावधान विश्व की सबसे लंबी विशाल 11000 मीटर की पैदल चुनरी यात्रा देवी भक्तों द्वारा 18 किलोमीटर चढ़ाई गई।चुनरी पदयात्रा 

दोपहर करीब 12 बजे सांची रोड स्थित भगवती देवी माता मंदिर पैदल चुनरी यात्रा आयोजित की गई।जो कि नगर के मुख्य मार्ग महामाया चौक भोपाल सागर रोड़ तिराहा मुखर्जी नगर यशवंत नगर अर्जुन नगर पाटनदेव से होती हुई छौले वाली माता मंदिर खंडेरा पहुंचकर खंडेरा वाली माता को अर्पित की गई ।

 इस विशाल चुनरी पदयात्रा के आयोजक चरण सेवक नपाध्यक्ष सविता जमना सेन सुरेश शर्मा जीतू सोनी राजीव तिवारी नूतन कुशवाहा पप्पू तमोली जितेंद्र अशोक सेन अशोक सोनी शंकर लाल चक्रवर्ती आदि शामिल हुए।उन्होंने बताया कि विश्व की यह सबसे बड़ी चुनरी पैदल यात्रा छौले वाली मैय्या खण्डेरा के दरबार में लाखों भक्तों द्वारा जयकारों के बीच अर्पित की गई ।देवी भक्त आयोजन समिति के सदस्य 18 किलोमीटर पैदल चलकर खंडेरा पहुंचकर माता रानी महाआरती हवन पूजन के बाद अर्पित की गई । चुनरी यात्रा का निरंतर सफल 11 वर्ष में निकाली गई।चुनरी की हर वर्ष इस वर्ष भी आयोजकों द्वारा सूरत गुजरात से लाई जातीहै।इसके पूर्व नगर के विभिन्न वार्डों में वाहन में रखकर यह चुनरी ढोलनगाडों के साथ आरती पूजा अर्चना के लिए भृमण की गई।

ये रहे आकर्षण के केंद्र.....

विशाल चुनरी पदयात्रा में शामिल भगवान शिव तांडव, भूत पिशाच दुलदुल घोड़ी का नाच,झांसी की ढपला रमतूला मयूर नृत्य घोड़े ऊंट नृत्य पार्टी पार्टी रहे आकर्षण का केंद्र।