मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के करीबी रिश्तेदार द्वारा किसान की जमीन पर कब्जा,दबंगई दिखाकर अन्नदाता की जमीन हड़पने की तैयारी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के करीबी रिश्तेदार द्वारा  किसान की जमीन पर कब्जा,दबंगई दिखाकर अन्नदाता की  जमीन हड़पने की तैयारी

रायसेन।मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के करीबी रिश्तेदार द्वारा दबंगई आई सामने ।किसान की तीन एकड़ जमीन पर अवैध कब्जा कर दी जा रही किसान के परिवार को धमकियां। मुख्यमंत्री के करीबी रिश्तेदार होने को लेकर किसान की नहीं हो रही है कोई सुनवाई ।रायसेन जिले बाड़ी तहसील के आखरी गाँव सुल्तान नगर का किसान बीते 20 वर्षों से परेशान है ।वह अपनी तीन एकड़ जमीन दूसरे के कब्जे से छुड़ाने तहसील एसडीएम के दफ्तर दफ्तर घूम रहा है । बरेली एसडीएम ने बाड़ी तहसीलदार को प्रकरण में सुनवाई करने का आदेश दिया और राजस्व की धारा 250 कि कार्यवाही के लाइट आदेशित किया ।रायसेन कलेक्टर अरविंद दुबे ने कहा कि यह न्यायलयीन प्रकिया है ।इसमें थोड़ा समय तो लगता है । लेकिन किसान यह बात नही समझ पाए कि कितना समय लगेगा । जिस व्यक्ति ने जमीन पर कब्जा कर रखा वो दबंग है और मुख्यमंत्री का नजदीकी रिश्तेदार भी है।ऐसे में प्रशासन की इस मामले में लेट लतीफी कहीं मुसीबत में ना डाल दे ।सुल्तान नगर के किसान महेश सिंह तोमर कहते है हमारी जमीन नही निकली तो परिवार को आत्महत्या करनी पड़ेगी ।

हम आपको यह बता दे किसान महेश सिंह की ग्राम सुल्तान नगर में 13 एकड़ जमीन है ।जिसमे से साढ़े तीन एकड़ जमीन पर दबंग किस्म के लोगो ने कब्जा कर रखी है। किसान की माने तो शिवराज सिंह चौहान के रिश्तेदार हरिसिंह चौहान कुछ जमीन पर कब्जा कर रखे हैं।उनकी ही शह पर दो और दबंग किसानों ने भी कब्जा कर लिया है। किसान महेश सिंह ने बताया साल 2019 में प्रधानमंत्री कार्यालय दिल्ली में शिकायत के बाद जमीन का सीमांकन हुआ था ।लेकिन अभी तक बाड़ी तहसीलदार कब्जा नही दिला पाए ।सन 2019 में मप्र कमलनाथ की सरकार थी तब हुआ था सीमांकन ।उसके बाद जब से शिवराज सरकार आयी है जिला प्रशासन के अधिकारी भी उनके रिश्तेदार के दबाब में है ।

 

हालांकि मीडिया के हस्तक्षेप के बाद कलेक्टर अरविंद दुबे ने इस मामले में जल्द कार्यवाही की बात कही देखने वाली बात होगी ।कि कब तक किसान अपनी जमीन पर फसल बो पायेगा ।जब कुछ मीडियाकर्मियों ने किसान की जमीन पर जाकर देखा तो पूरा खेत खाली पड़ा है ।किसान उस खेत पर खेती नही कर पा रहा और आर्थिक रूप से परेशानी में भी है । किसान महेश सिंह साफ तौर पर कहते है। अगर जमीन खाली नही करवाई तो मुझे परिवार सहित आत्महत्या करनी पड़ेगी ।ऐसी स्थिति में जिला प्रशासन को जल्द इस मामले में कार्यवाही करनी चाहिए। जिससे किसान अपने खेत पर खेती कर सके और दबंगो को सबक मिल सके ।