अवैध शराब कारोबारियों के विरुद्ध आबकारी बरेली की छापामार कार्यवाही से शराब माफियाओं में मची हड़कंप

अवैध शराब कारोबारियों के विरुद्ध आबकारी बरेली की छापामार कार्यवाही से शराब माफियाओं में मची हड़कंप

रायसेन।जिले में अवैध मदिरा का व्यवसाय करने वालों के खिलाफ अभियान चलाकर सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए हैं। कलेक्टर अरविंद दुबे के निर्देशों के परिपालन में सहायक आबकारी आयुक्त वंदना पाण्डेय के निर्देशन में तथा सहायक जिला आबकारी अधिकारी सुदीप तोमर के मार्गदर्शन में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जिले में अवैध शराब व्यवसाय, विनिर्माण, संग्रहण एवं परिवहन आदि के विरुद्ध चलाये जा रहे विशेष अभियान के तहत गठित टीम-1 के सहयोग से आज दिनांक 25 अगस्त को वृत्त बरेली के आबकारी उपनिरीक्षक राजेश विश्वकर्मा द्वारा प्राप्त विश्वसनीय सूचनाओं के आधार पर बाड़ी थानांतर्गत स्थित ग्राम केबलाझिर में दविश देकर कार्यवाही की गई।

आबकारी दल द्वारा आरोपी राधा बाई एवं पूजा बाई रायसिख के रिहायशी मकानो पर दबिश देकर दोनों को 5-5 लीटर अवैध हाथ देशी भट्टी मदिरा के साथ रंगे हाथ पकड़ा गया ।केबलाझिर के पहाड़ी में दविश देकर 5 ड्रामों में भरा करीबन 480 किलोग्राम अवैध मदिरा निर्माण के लिए रखा महुआ लाहन बरामद कर मौके पर नष्ट किया गया। साथ ही उसी स्थान से एक केन में भरी 15 लीटर अवैध हाथ भट्टी मदिरा जप्त की गई। इसके उपरांत ग्राम कासिया पाटनी पहुँच विशना बाई शिवानी बाई रायसिख के रिहायशी मकानों पर दबिश देकर इन दोनों को 10-10 लीटर अवैध हाथ भट्टी मदिरा के साथ रंगे हाथ पकड़ा गया ।कासिया पाटनी के पहाड़ी नाला के किनारे दविश देकर 6 ड्रमो में भरा करीबन 425 किलोग्राम अवैध शराब बनाने के लिए तैयारशुदा महुआ लाहन सेम्पल लेकर मौके पर नष्ट किया। उसी स्थान से एक केन में भरी 20 लीटर हाथ भट्टी मदिरा को मौके पर विधिवत जप्त किया।

इस कार्यवाही में चार लोगों को मौके पर गिरफ्तार किया गया । दो प्रकरण अज्ञात आरोपीगण के विरूद्ध मप्र आबकारी अधिनियम 1915 संशोधन धारा 34(1)(क) (च) के तहत कुल 6 प्रकरण कायम किए गए। जिसमें कुल 65 बल्क लीटर हाथ भट्टी मदिरा जप्त की जाकर कब्जा आबकारी लिया गया एवं 905 किलोग्राम महुआ लाहन सेम्पल लेकर मौके पर नष्ट किया गया। जप्त की गई मदिरा एवं लाहन का बाजार मूल्य 103500 रूपये आंकलित किया गया है। कार्यवाही में आबकारी उपनिरीक्षक वृत्त ओबेदुल्लागंज संदीप द्विवेदी, आरक्षक मो. माजिद खान, रामस्वरूप पटेल तथा सैनिक कमलेश मर्सकोले, बैनी गुप्ता, रामकुमार पचौरी एवं राजेश शर्मा का सराहनीय योगदान रहा।